Thursday, May 26, 2011

नीला आसमान

कहने को तो ..... नीला आसमान मेरे चारो तरफ़ लहरा रहा है । पर मेरे लिए एक मुठ्ठी भर भी नही बचा ।
चाहत तो एक मुठ्ठी भर आसमाँ की ही थी । वह भी मुअस्सर नही ।
सूरज की किरणे मुझ पर भी वैसे ही पड़ती है , जैसे दूसरो पर गिरती है । अफ्शोश !मुझमे गर्मी पैदा करने की
ताकत उसमे नही ।
कौन जानता ...मै वह अन्धकार बन गया हूँ , जिसपर उजाले का कोई असर नही ।

2 comments:

sushma 'आहुति' said...

bhut hi accha likha hai apne...

राकेश कौशिक said...

उदासीन जीवन को दर्शाने/शब्द देने का सार्थक प्रयास - शुभकामनाएं