Wednesday, February 18, 2009

सी वी रमन ......

महत्वाकांछी बनो और उसकी कोई सीमा न होने दो । अकर्मण्यता के जीवन से मृत्यु अच्छी है। -- सी वी रमन
जो लोग केवल सोचते है ,वे कुछ कर नही सकते ........

1 comment:

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

बहुत ही नेक विचार.......जीवन में सिर्फ कर्म का ही महत्व है.