Saturday, June 20, 2009

आने वाली जेनेरेशन के लिए भी कुछ बचा कर रखो ....

एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि वर्ष 2050 तक ग्लेशियरों के पिघलने से भारत, चीन, पाकिस्तान और अन्य एशियाई देशों में आबादी का वह निर्धन तबका प्रभावित होगा जो प्रमुख एवं सहायक नदियों पर निर्भर है।ग्लोबल वार्मिंग आज पुरे विश्व की प्रमुख समस्या बन चुकी हैयह किसी एक देश से सम्बंधित होकर वैश्विक समस्या है ,जिसकी चपेट में लगभग सारे देश आने वाले है
भारतीयों के लिए गंगा एक पवित्र नदी है और उसे लोग जीवनदायिनी मानते हैं। रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि नदियों में परिवर्तन और उन पर आजीविका के लिए निर्भरता का असर अर्थव्यवस्था, संस्कृति और भौगोलिक प्रभाव पर पड़ सकता है। गंगा तब जीवनदायिनी नही रह पायेगीबाढ़ और सूखे का प्रकोप बढ़ जाएगा
जर्मनी के बॉन में जारी रिपोर्ट Searh of Shelter : Mapping the Effects of Climate Change on Human Mitigation and Displacement में कहा गया है कि ग्लेशियरों का पिघलना जारी है और इसके कारण पहले बाढ़ आएगी और फिर लंबे समय तक पानी की आपूर्ति घट जाएगी। निश्चित रूप से इससे एशिया में सिंचित कृषि भूमि का बड़ा हिस्सा तबाह हो जाएगा। यह रिपोर्ट एक भयावह स्थिति को प्रर्दशित करता हैसमय रहते ही चेत जाने में भलाई है , नही तो हम आने वाली भावी पीढियों के लिए कुछ भी छोड़ कर नही जायेंगे और यह उनके साथ बहुत बड़ा धोखा होगा

5 comments:

bhawna pandey said...

ओह ! मैंने अभी ३-४ दिन पहले ही टी वी पर सुना था की इस ग्लोबल वार्मिंग के चलते हमारी पवित्र जीवनदायनी माँ गंगा का मुख्या स्रोत २०३५ तक सूख जाएगा । सच ये सुन कर मन भय भीत हो गया था , उस दिन अपनी तरफ़ से एक प्रयास किया और ५ पेड़ नदी किनारे जा कर लगाये और prn किया की अपनी हर जन्म दिन पर जितने पेड़ हो सकेंगे लगाउंगी ।

दिगम्बर नासवा said...

इतनी गंभीर समस्या को हम समझ भी रहे है लगता नहीं ......... Bhay lagtaa hai

अमिताभ श्रीवास्तव said...

मार्कजी,
आज लगभग हर कोई जान रहा है आने वाली खतरनाक घडी को, किंतु सिर्फ जान रहा है, कुछ कर नही रहा,,,यही आदमी का पतन है/
कल सरस्वती सूखी, अब गंगा की बारी है...और एक दिन सब कुछ तबाह हो जयेगा....//

Mumukshh Ki Rachanain said...

समय रहते ही चेत जाने में भलाई है , नही तो हम आने वाली भावी पीढियों के लिए कुछ भी छोड़ कर नही जायेंगे और यह उनके साथ बहुत बड़ा धोखा होगा ।

भाई मार्क जी जो समझदार हैं वाह तो खुद ही चेते हुई हैं और जो गलत हैं, पैसों के पीछे पागल हैं उन्हें तो ये बातें समझ ही न आयेंगी, उन्हें तो बस आज दीखता है, आगे की पेदियों से उन्हें क्या मतलब??????????

चन्द्र मोहन गुप्त

श्याम कोरी 'उदय' said...

... सही जानकारी, लेकिन अब क्या कहा जाये सभी के सभी हाथ-पे-हाथ धरे बैठे हैं, कुछ न कुछ इस तरह की प्राकृतिक घटनाओं की रोकथाम की दिशा में नियमित प्रयास होते रहना चाहिये अन्यथा .... !!!!!!!